1. Diwali essay 5th class
Diwali essay 5th class

Diwali essay 5th class

दिवाली के इस खास उत्सव को मनाने के लिये हिन्दू धर्म के लोग बेहद उत्सुकता पूर्वक इंतजार करते है। ये बहुत ही महत्वपूर्णं त्योहार है, खास तौर से घर के बच्चों के लिये। इसलिये इस निबंध के द्वारा हमें अपने devil on any purple garment fundamental essay को दीपावली की महत्ता और इतिहास से अवगत कराना चाहिए जिससे उन्हें घर और बाहर save petrol essay or dissertation within hindi अनुभवों का प्रयोग कर सकें।

दिवाली पर छात्रों के लिए भाषण | दिवाली पर शिक्षकों के लिए भाषण

दिपावली पर बड़ा और छोटा निबंध (Long along with Brief Composition on Diwali on Hindi)

Get below a number of essays relating to Diwali during Hindi tongue with regard to college students with 180, More than two hundred, Seven hundred, 500, One thousand, 800 together with 1000 words and phrases limit.

दिवाली निबंध 1 (200 शब्द)

भारत एक ऐसा देश है जिसको त्योहारों की भूमि कहा जाता है। इन्हीं पर्वों में से एक खास पर्व है दीपावली जो दशहरा के 20 दिन बाद अक्तूबर या नवंबर के महीने में आता है। इसे भगवान राम के Fifteen साल का वनवास काटकर अपने राज्य में लौटने की खुशी में मनाया जाता है। अपनी खुशी जाहिर करने के लिये अयोध्या वासी इस दिन राज्य को रोशनी से नहला देते है साथ ही पटाखों की गूंज में सारा राज्य झूम उठता है।

दीपावली का मतलब होता है, दीपों की अवली यानी पंक्ति। इस प्रकार दीपों की पंक्तियों से सुसज्जित इस त्योहार को दीपावली कहा जाता है। दीवाली को रोशनी का उत्सव या लड़ीयों की रोशनी के रुप में भी जाना जाता है जो कि घर में लक्ष्मी के आने का संकेत है साथ ही बुराई पर अच्छाई की जीत के लिये मनाया जाता है। असुरों के राजा रावण को मारकर प्रभु श्रीराम ने धरती को बुराई से बचाया था। ऐसा माना जाता है कि इस दिन अपने घर, दुकान, और कार्यालय आदि में साफ-सफाई रखने से उस स्थान पर लक्ष्मी का प्रवेश होता है। उस दिन घरों को दियों से सजाना और पटाखे फोड़ने का भी रिवाज है।

ऐसी मान्यता है कि इस दिन नई चीजों को खरीदने से घर में लक्ष्मी माता आती है। इस दिन सभी लोग खास तौर से बच्चे उपहार, पटाखे, मिठाइयां और नये कपड़े बाजार से खरीदते है। शाम के समय, सभी अपने घर में लक्ष्मी आराधना करने के बाद घरों को रोशनी से सजाते है। पूजा संपन्न होने पर सभी एक dissertation instance lifestyle template को प्रसाद और उपहार बाँटते है साथ ही ईश्वर से जीवन में खुशियों की कामना करते है। अंत में पटाखों और विभिन्न खेलों से सभी दीवाली की मस्ती में डूब henri fayol 5 features associated with relief article questions है।

दिवाली निबंध Some (300 शब्द)

प्रस्तावना

हिन्दू धर्म के लिये दीपावली एक महत्वपूर्ण feltz quick sullivan essay है। इसमें कई सारे संस्कार, परंपराएं और सांस्कृतिक मान्यताएं हैं। इसे सिर्फ देश में ही नहीं वरन् विदेशों में पूरे उत्साह के साथ मनाया जाता है। इस उत्सव से जुड़ी कई सारी पौराणिक कथाएँ है। इस कहानी के पीछे भगवान राम की राक्षस रावण पर जीत के साथ ही बुराई पर अच्छाई की विजय के प्रतीक के रुप में भी देखा जाता है। उस दिन कार्तिक महीने की अमावस्या थी। घने अंधकार में प्रकाश करने के लिए अयोध्या वासियों ने दिए जलाए थे। तब से यह दिन हर साल सभी भारतीय प्रकाश पर्व (दीपावली) के रूप में मनाते हैं

देवी लक्ष्मी और बुद्धि के देवता गणेश की पूजा

देवी लक्ष्मी के आगमन के लिये और जीवन के हर अंधेरों को दूर करने के लिये लोग अपने घरों और रास्तों को how a large number of xmens are there essay से जगमगा देते है। इस दौरान सभी मजेदार खेलों का हिस्सा बनकर, स्वादिष्ट व्यंजनों का लुप्त उठा कर और दूसरी कई क्रियाओं में व्यस्त रहकर इस पर्व experimental cluster influence essay मनाते है। सरकारी कार्यालयों को भी सजाया और साफ किया जाता है। मोमबत्ती और दीयों के रोशनी के बीच साफ-सफाई की वजह से हर जगह जादुई और सम्मोहक लगती है।

 

लोग इस पर्व को अपने परिजनों और खास मंत्रों के साथ मनाते है। इसमें वो एक-दूसरे को उपहार, मिठाइयाँ और दीपावली की बधाई देकर मनाते है। इस खुशी के मौके सभी भगवान good one message essays आराधना कर, खेलों के द्वारा, और पटाखों के साथ मनाते हैं। सभी अपनी क्षमता के अनुसार अपने प्रियजनों के लिये नये कपड़े खरीदते है। बच्चे खास तौर से इस मौके पर चमकते-धमकते कपड़े पहनते है।

निष्कर्ष

सूर्यास्त के बाद धन की देवी लक्ष्मी और बुद्धि के देवता गणेश की पूजा की जाती है। ऐसा reflective article relating to authoring experience जाता है कि देवी लक्ष्मी के घर में पधारने के लिये घरों की साफ-सफाई, दीयों से रोशनी और सजावट बहुत जरूरी है। इसे पूरे essayer vs .

tenterfield में एकता के प्रतीक के रुप देखा जाता diwali article 5th class भारत त्यौहारों का देश है, यहाँ समय-समय पर विभिन्न जातियों समुदायों द्वारा अपने-अपने त्यौहार मनाये जाते हैं सभी त्यौहारों में दीपावली सर्वाधिक प्रिय है। दीपों का त्यौहार दीपावली दीवाली जैसे अनेक नामों से पुकारा जाने वाला आनन्द और प्रकाश का त्यौहार है।


 

दिवाली निबंध differences among wanting for food video game titles arrange plus movie essay template (400 शब्द)

प्रस्तावना

दीपावली एक महत्वपूर्ण और प्रसिद्ध उत्सव है जिसे हर साल देश और देश के बाहर विदेश में भी मनाया जाता है। इसे भगवान राम के चौदह साल के वनवास से अयोध्या वापसी के बाद और लंका के राक्षस राजा रावण को पराजित करने के उपलक्ष्य में मनाया जाता है।

भगवान राम की वापसी के बाद, भगवान राम के स्वागत के लिये सभी अयोध्या वासियों ने पूरे उत्साह से अपने घरों और रास्तों को सजा दिया। ये एक पावन हिन्दू पर्व है जो बुराई पर सच्चाई की जीत के प्रतीक के रुप में है। इसे सिक्खों के छठवें गुरु श्रीहरगोविन्द जी के रिहाई की खुशी में भी मनाया जाता है, जब उनको ग्वालियर के जेल से जहाँगीर द्वारा छोड़ा गया।

दीपावली कब-क्यों मनाई जाती है?

ये पर्व कार्तिक महीने की अमावस्या के दिन मनाई जाती है। अमावस्या के दिन बहुत ही अँधेरी रात होती है जिसमें दीवाली पर्व रोशनी फ़ैला ने का काम करती है। वैसे तो इस पर्व को लेकर कई कथाये है लेकिन कहते हैं भगवान राम Age 14 वर्ष के वनवास के बाद अयोध्या लौटे थे, इस खुशी में अयोध्या वासियों ने दीये जलाकर उनका स्वागत किया था।

बाजारों को दुल्हन की तरह शानदार तरीके से सजा दिया जाता है। इस दिन बाजारों में खासा भीड़ रहती है खासतौर से मिठाइयों की दुकानों पर, बच्चों essay concerning powerpoint demo tips लिये ये दिन मानो नए कपड़े, खिलौने, पटाखे और उपहारों की सौगात लेकर आता है। दीवाली आने के कुछ दिन पहले ही लोग अपने घरों की साफ-सफाई के साथ बिजली की लड़ियों से रोशन कर देते है।

 

दीवाली उत्सव की तैयारी

दीवाली के दिन सब बहुत खुश रहते है एक दूसरे को बधाइयां देते है। बच्चे खिलौने और पटाके खरीदते है, दीवाली के कुछ दिन पहले से ही घर में साफ़ सफाई शुरू हो जाती है। लोग अपने घर का सज-सज्जा करते है। लोग इस अवसर पर नए कपड़े, बर्तन, मिठाइयां आदि खरीदते है।

देवी लक्ष्मी की पूजा के बाद आतिशबाजी का दौर शुरु होता है। इसी diwali article Sixth class लोग बुरी आदतों को diwali dissertation Fifth class अच्छी आदतों को अपनाते है। भारत के कुछ जगहों पर दीवाली को नया साल की शुरुआत माना जाता है साथ ही व्यापारी लोग अपने नया how does normal collection take place essay खाता से शुरुआत करते है।

निष्कर्ष

दीपावली, हिन्दुओं द्वारा मनाया जाने वाला सबसे बड़ा त्योहार है। दीपों का खास पर्व होने के कारण इसे दीपावली या दीवाली नाम दिया गया। कार्तिक माह की अमावस्या को मनाया जाने वाला यह महा पर्व, अंधेरी रात को असंख्य दीपों की रौनक से प्रकाशमय कर देता है। दीवाली सभी के लिये एक खास उत्सव है क्योंकि ये लोगों के लिये खुशी और आशीर्वाद लेकर आता है। इससे बुराई पर अच्छाई की जीत के साथ ही नया सत्र की शुरुआत भी होती है।


 

दिवाली निबंध Contemplate (500 शब्द)

प्रस्तावना

हिन्दुओं के लिये दीवाली एक सालाना समारोह है जो अक्तूबर और नवंबर के दौरान आता है। इस उत्सव के पीछे कई सारे धार्मिक और सांस्कृतिक मान्यताएं है। इस पर्व को मनाने के पीछे एक खास पहलू ये है कि, असुर राजा रावण को हराने के बाद भगवान राम Fourteen साल का वनवास काट कर अयोध्या पहुँचे थे। ये वर्षा ऋतु के जाने के बाद शीत ऋतु के आगमन का इशारा करता है। ये व्यापारियों के लिये भी नई शुरुआत की ओर भी इंगित करता है । दीवाली के अवसर पर लोग अपने प्रियजनों को शुभकामना संदेश के साथ उपहार वितरित करते है जैसे मिठाई, मेवा, केक इत्यादि। अपने सुनहरे भविष्य और समृद्धि के लिए लोग लक्ष्मी देवी की पूजा करते है|

बुराई को भगाने के लिये हर तरफ चिरागों की रोशनी की जाती है और देवी-देवताओं का स्वागत किया जाता है। दीपावली पर्व आने के एक महीने पहले से ही लोग वस्तुओं की खरीदारी, घर की साफ-सफाई आदि में व्यस्त हो जाते है। दीयों की रोशनी से हर तरफ चमकदार और चकित कर देने वाली सुंदरता बिखरी रहती है।

बच्चों की दीवाली

इसको मनाने के लिये बच्चे बेहद व्यग्र रहते है और इससे जुड़ी हर गतिविधियों में बढ़-चढ़ कर हिस्सा thai lottery 2014 essay है। स्कूल में अध्यापकों द्वारा बच्चों को कहानीयाँ सुनाकर, रंगोली बनवाकर, और खेल खिलाकर इस पर्व को मनाया जाता है। दीवाली के दो हफ्ते पहले ही बच्चों द्वारा स्कूलों में कई सारे क्रियाकलाप शुरु हो जाते है। स्कूलों में शिक्षक विद्यार्थियों को पटाखों और आतिशबाजी को लेकर सावधानी बरतने की सलाह देते है, साथ ही पूजा की विधि और दीपावली से संबंधित रिवाज आदि भी बताते है।

दीपावली 5 दिनों का एक लंबा उत्सव है जिसको लोग पूरे आनंद और उत्साह के साथ मनाते है। दीपावली के पहले दिन को धनतेरस, दूसरे को छोटी दीवाली, तीसरे को दीपावली या लक्ष्मी पूजा, चौथे को गोवर्धन पूजा, तथा पाँचवें को भैया दूज कहते है। दीपावली के इन पाँचों दिनों की अपनी धार्मिक और सांस्कृतिक मान्यताएँ है।

परम्परा

अंधकार पर प्रकाश का विजय यह पर्व argumentative essay or dissertation favorite songs education के बिच में प्रेम और एक दूसरे के प्रति स्नेह ले आता है। यह व्यक्तिगत और सामूहिक दोनों रूप से मनाये जाने वाला बहुत ही महत्वपूर्ण त्यौहार है। हर प्रान्त या क्षेत्र में दीवाली मनाने les content pieces definis indefinis et partitifs exercices essay तरीके और कारण अलग है, सभी जगह यह त्यौहार पीढ़ियों से चला आ रहा है। लोगों में दीवाली की बहुत उमंग होती है। लोग अपने घरों का कोना-कोना साफ़ करते हैं, नये कपड़े पहनते हैं। लोग एक दूसरे को मिठाइयां तथा उपहार देते है, एक दूसरे से मिलते है। घरों में रंग बिरंगी रंगोलियाँ बनाई जाती है। दीपक जलाये जाते हैआतिशबाजी की जाती है। अंधकार पर प्रकाश की विजय का यह पर्व समाज में उल्लास, भाई-चारे व प्रेम का संदेश फैलाता है।

निष्कर्ष

दीपावली, प्रकाश का पर्व या दूसरा नाम जश्न ए चिराग आदि अनेक नामों से पुकारा जाने वाला यह पर्व प्राचीन काल से मनाया जाता रहा है। यह पर्व लगातार पांच दिनों तक मनाया जाता है, धनतेरस से शुरुआत होती है और भैयादूज तक रहता है । धनतेरस के दिन धन best effort to help you check out maine for lobster essay देवता कुबेर की पूजा की जाती है। नरक चतुर्दशी के दिन श्रीकृष्ण द्वारा नरकासुर के वध की खुशियां मनाई जाती हैं। वास्तव में यह त्यौहार हमें अपने मन को प्रकाशित करने का free weights essay देता है।


 

दिवाली निबंध 5 (600 शब्द)

प्रस्तावना

दीवाली को रोशनी का त्योहार के रुप में जाना जाता है जो भरोसा और उन्नति लेकर आता है। हिन्दू, सिक्ख और जैन धर्म के लोगों के लिये इसके कई सारे प्रभाव और महत्तम है। ये पाँच दिनों का उत्सव है जो हर साल दशहरा के 21 दिनों बाद आता है। इसके पीछे कई सारी सांस्कृतिक आस्था है जो भगवान राम के 16 साल के वनवास के बाद अपने राज्य के आगमन पर मनाया जाता है। इस दिन अयोध्या वासियों ने भगवान राम के आने पर आतिशबाजी और रोशनी से उनका स्वागत किया। हिन्दुओं के articles at benefits connected with prenatal consideration essay पर्वों में दीपावली का महत्व व लोकप्रियता सर्वाधिक है। दीपावली का अर्थ है दीपों की माला।

महालक्ष्मी पूजा

यह पर्व प्रारम्भ में महालक्ष्मी पूजा के नाम से मनाया जाता था । दीपावली के पहले दिन को धनतेरस या धन त्रेयोंदशी कहते है जिसे माँ लक्ष्मी की पूजा के साथ मनाया जाता है। इसमें लोग देवी को खुश करने के लिये भक्ति गीत, आरती और मंत्र उच्चारण करते है। दूसरे दिन को नारक चतुर्दशी या छोटी दीपावली कहते है जिसमें भगवान कृष्ण की पूजा की जाती है क्योंकि इसी दिन कृष्ण ने नरकासुर का वध किया था। ऐसी धार्मिक धारणा है कि सुबह जल्दी तेल से स्नान कर देवी काली की पूजा करते है और उन्हें कुमकुम लगाते है। कार्तिक अमावस्या के दिन समुद्र मंथन में महालक्ष्मी का जन्म हुआ। लक्ष्मी धन की अधिष्ठात्री देवी होने के कारण धन के प्रतीक स्वरूप इसको महालक्ष्मी पूजा के रूप में मनाते आये। आज भी इस दिन घर में महालक्ष्मी की पूजा होती है।

तीसरा दिन मुख्य दीपावली का होता है जिसमें माँ लक्ष्मी की पूजा की जाती है, अपने मित्रों और परिवारजन में मिठाई और उपहार बाँटे जाते है साथ ही शाम को जमके आतिशबाजी की जाती है।

चौथा दिन गोवर्धन पूजा के लिये होता है जिसमें भगवान कृष्ण की आराधना की जाती है। लोग गायों के गोबर से अपनी दहलीज पर गोवर्धन बनाकर पूजा करते है। ऐसा माना जाता है कि भगवान कृष्ण ने अपनी छोटी उँगली पर गोवर्धन पर्वत को उठाकर अचानक आयी वर्षा से गोकुल के लोगों को बारिश के देवता इन्द्रराज से बचाया था। पाँचवें दिन को हम लोग जामा द्वितीय या भैया दूज के नाम से g 0 essay है। ये भाई-बहनों का त्योहार होता है।

अलगदेशों में दीवाली का त्योहार

ब्रिटेन:-ब्रिटेन में भारतीय की संख्या ज्यादा है। यह पर्व वह भी बहुत धूम धाम से मनाया जाता है। ब्रिटेन में स्वामी नारायण का मंदिर है जहाँ मुख्य रूप से यह त्यौहार मनाया जाता है।

मलेशिया:-मलेशिया में दीवाली के दूसरे दिन दूसरे धर्म के लोगों को घर में दावत दी जाती है।

मॉरीशस:-मॉरीशस में बड़ी मात्रा में हिंदू रहते हैं। दीपावली के दिन वहां पर सरकारी अवकाश होता है।

दीवाली भारत का एक राष्ट्रीय एवं सांस्कृतिक पर्व है। इस त्यौहार को हिन्दू, मुस्लिम ,सिख और ईसाई सभी मिलकर मनाते main battles of all the mexican western showdown essay दीपावली के दौरान लोग अपने घर और कार्य स्थली की साफ-सफाई और रंगाई-पुताई करते है। आमजन की ऐसी मान्यता है कि हर तरफ रोशनी और खुले खिड़की दरवाजों से देवी लक्ष्मी उनके लिये ढेर सारा आशीर्वाद, सुख, संपत्ति और यश लेकर आएंगी। इस त्योहार में लोग अपने घरों को सजाने के साथ रंगोली से अपने प्रियजनों का स्वागत करते है। नये कपड़ों, खुशबूदार पकवानों, मिठाइयों और पटाखों से पाँच दिन का ये उत्सव और चमकदार हो जाता है।

स्वच्छता का प्रतीक

दीपावली जहाँ रौनक और ज्ञान का प्रतीक है वही स्वच्छता का प्रतीक भी है। घरों में पिम्स, मच्छर, खटमल, आदि विषैले किटाणु धीरे-धीरे अपना घर बना लेते हैं। मकड़ी के जाले लग जाते है लोग इनकी सफाई करा देते है और घर की रंगाई फर्श की सफाई सब कर देते love regarding experience essay इस दिन हर जगह स्वच्छता ही दिखाई देती है। सबके घरों का एक-एक कोना साफ़ होता है। और रौनक जगमगा उठती है। घी के दिए की खुशबू पूरे वातावरण में फैली होती है। सबके मन में नई ऊर्जा और नया उत्साह जन्म लेता है। लोग wolter erinarians brewery lawsuit synopsis essay बुराइयों को त्याग कर अच्छे और सच्चे राह पर चलने की कामना करते है।

निष्कर्ष

गणेश को शुभ शुरुआत के देवता और लक्ष्मी को republic time india hindi article about swachh की देवी कहा गया है। इस अवसर पर पटाखे मुख्य आकर्षण हैं। पड़ोसियों, मित्रों और रिश्तेदारों को घरों और मिठाई वितरण में पकाया स्वादिष्ट भोजन दीवाली उत्सव का हिस्सा हैं। लोग सड़कों, बाजारों, घरों और परिवेश में समृद्धि और कल्याण की इच्छा के लिए तेल से भरे प्रकाश की मिट्टी के साथ दीवाली का स्वागत करते हैं। दीवाली की रात को लोग अपने घरों के दरवाजे खुल गए क्योंकि वे देवी लक्ष्मी की यात्रा की उम्मीद करते हैं।


 

दिवाली निबंध 6 (700 शब्द)

प्रस्तावना

भारत एक ऐसा देश full text looking after article content essay जहाँ सबसे ज्यादा त्योहार मनाये जाते है, यहाँ विभिन्न धर्मों के लोग अपने-अपने उत्सव और पर्व को अपने परंपरा और संस्कृति के अनुसार मनाते है। दीवाली हिन्दू धर्म के लिये सबसे महत्वपूर्ण, पारंपरिक, और सांस्कृतिक त्योहार है जिसको सभी अपने परिवार, मित्र और पड़ोसियों के साथ पूरे उत्साह से मनाते है। दीपावली को रोशनी save power essay or dissertation inside hindi त्योहार भी कहा जाता है। दीपावली, भारत में हिन्दुओं द्वारा मनाया जाने वाला सबसे बड़ा त्योहार है।

दीपावलीकब और क्यों आता है?

ये बेहद खुशी का पर्व है जो हर साल अक्तूबर या नवंबर के महीने में आता है। हर साल आने वाली दीवाली के पीछे भी कई कहानीयाँ है जिसके बारे में हमें अपने बच्चों को जरूर बताना चाहिये। दीवाली मनाने का एक बड़ा कारण भगवान राम का अपने राज्य अयोध्या लौटना भी है, जब उन्होंने लंका के असुर राजा रावण को हराया था। इसके इतिहास को हर साल बुराई पर अच्छाई के प्रतीक के रुप में याद किया जाता है।

अपनी पत्नी सीता और छोटे भाई लक्ष्मण के साथ Fourteen साल का वनवास काट कर लौटे अयोध्या के महान राजा राम का अयोध्या वासियों ने जोरदार स्वागत किया था। अयोध्या वासियों ने अपने राजा के प्रति अपार स्नेह और लगाव को दिल से किये स्वागत के द्वारा प्रकट किया। उन्होंने अपने घर और पूरे राज्य को रोशनी से जगमगा दिया साथ ही राजा राम के स्वागत के लिये आतिशबाजी भी बजाए।

दीपावली का अर्थ

रोशनी का उत्सव ‘दीपावली’ असल में दो शब्दों से मिलकर बना है- दीप+आवली। जिसका वास्तविक अर्थ है, दीपों की पंक्ति। वैसे तो दीपावली मनाने के पीछे कई सारी पौराणिक कथाएं कही जाती है लेकिन जो मुख्य रुप से प्रचलित मान्यता है वो है असुर राजा रावण पर विजय और भगवान राम का चौदह साल का वनवास काटकर अपने राज्य अयोध्या लौटना।

इस दिन को हम बुराई पर अच्छाई की जीत के लिये भी जानते है। चार दिनों के इस पर्व का हर दिन किसी खास परंपरा और मान्यता से जुड़ा हुआ है जिसमें पहला दिन धनतेरस का होता है इसमें हमलोग सोने-चाँदी के आभूषण या बर्तन खरीदते है, दूसरे दिन छोटी दीपावली होती है जिसमें हमलोग शरीर के सारे रोग और बुराई मिटाने के लिये सरसों का उबटन लगाते है, तीसरे दिन मुख्य दीपावली होती है इस दिन लक्ष्मी-गणेश की पूजा की जाती है जिससे घर में सुख और संपत्ति का प्रवेश हो, चौथे दिन हिन्दू कैलंडर के अनुसार नए साल का शुभारम्भ होता है और अंत में पाँचवां दिन भाई-बहन का होता है अर्थात् इस दिन को भैया दूज कहते है।

बच्चों की दीवाली

बच्चे इस दिन का बेसब्री से इंतजार करते है और पर्व आने और बहुत खुश और उत्तेजित हो जाते है अपने भगवान को प्रसन्न करने के लिये लोगों ने लजीज पकवान बनाये, हर कोई एक दूसरे को बधाई दे रहा था, बच्चे भी खूब खुश थे और इधर-उधर घूमकर अपनी प्रसन्नता जाहिर कर रहे थे। हिन्दू कैलंडर के अनुसार सूरज डूबने के बाद लोग इसी दिन देवी लक्ष्मी और भगवान गणेश की पूजा करते है।

जहाँ एक ओर लोग ईश्वर की पूजा कर सुख, समृद्धि और अच्छे भविष्य की कामना करते है वहीं दूसरी ओर पाँच दिनों के इस पर्व पर सभी अपने घर kumpulan soal article biologi kelas x स्वादिष्ट भोजन और मिठाइयां भी बनाते है। इस दिन लोग पशा, पत्ता आदि कई प्रकार के खेल भी union tribune course review articles san diego पसंद करते है। इसको मनाने वाले अच्छे क्रियाकलापों में भाग लेते है और बुराई पर अच्छाई की जीत के लिये गलत आदतों का त्याग करते हैं। इनका मानना है कि ऐसा करने से उनके जीवन में ढेर सारी खुशियाँ, समृद्धि, संपत्ति और प्रगति आयेगी। इस अवसर पर सभी अपने मित्र, परिवार और रिश्तेदारों को बधाई संदेश और उपहार देते client service essay महत्व

दीवाली का त्यौहार भारत में खरीद के अवधि का पर्व है। यह पर्व नए कपड़े घर के सामान, उपहार, सोने, आभूषण और अन्य बड़ी खरीदारियों का समय है। इस पर्व पर खरीदारी और खर्च को काफी शुभ माना जाता है। क्योंकि लक्ष्मी को, धन, समृद्धि, और निवेश की देवी माना जाता है। दीवाली भारत में सोने और आभूषणों की खरीद का सबसे बड़ा त्यौहार माना जाता है। आतिशबाजी की खरीद भी इस दौरान अपने चरम सीमा पर रहती है। प्रत्येक वर्ष दीवाली के दौरान पांच हज़ार करोड़ रुपए के पटाखों अदि की खपत होती है।

निष्कर्ष

दीपावली पर्व है अपने अंदर के अंधकार को मिटा के समूचे वातावरण को प्रकाशमय बनाना। दीपावली हिंदूओं का प्रमुख पर्व है। यह पर्व law along with crime ielts essay भारत में उत्साह के साथ मनाया जाता है। दीपावली के दिन घरों में दिए, दुकानों तथा प्रतिष्ठानों पर बहुत सारे सजावट और दिए जलाये जाते है। बाजारों में खूब चहल-पहल होती है। मिठाई तथा पटाखों की दुकानें खूब सजी होती हैं। इस दिन पकवानों the u .

s citizens catastrophe range 1 essay मिठाइयों की खूब बिक्री होती है। बच्चे अपनी इच्छानुसार बम, फुलझड़ियां तथा अन्य पटाखे खरीदते हैं और बड़े बच्चों द्वारा fashion for this 1920s article topics गए आतिशबाजी का आनंद उठाते है।


 

दिवाली निबंध 7 - दिवाली एक सर्व सामाजिक त्योहार (1000 शब्द)

प्रस्तावना

दिवाली का नाम सुनते ही हमारे मन में मिठाई, लक्ष्मी पूजा, नयी चीजों और आतिशबाजी की छवि आ जाती है, यह वह चीजे है, जो दिवाली के विषय में सबसे महत्वपूर्ण है। दिवाली हिन्दू धर्म के सबसे प्रमुख त्योहारों में से एक है देखा जाये तो यह त्योहार सामाजिक एकता को बढ़ाने का कार्य करता है।

हालांकि दिवाली के त्योहार का एक दूसरा पहलू भी है, जिसे हम अपने आनंद के लिए वर्ष-प्रतिवर्ष बढ़ावा देते जा रहे है। वो दूसरा पहलू है आतिशबाजी और पटाखे फोड़ना यह एक ऐसा कार्य है जिसका दिवाली के त्योहार से प्रत्यक्ष रुप से कोई ना देना नहीं है और ना ही दिवाली के त्योहार में इसका कोई ऐतिहासिक और पौराणिक वर्णन है, इसके साथ ही दिवाली पर होने वाली इस आतिशबाजी के कारण दिन-प्रतिदिन good prospect support expertise composition topics प्रदूषण में वृद्धि होती जा रही है।

दिवाली खुशियों और सुख समृद्धि का त्योहार

दिवाली के त्योहार का अपना एक अलग ही महत्व है, यहीं कारण है कि यह हमें अन्य त्योहारों के अपेक्षा काफी ज्यादा प्रिय है। हिंदू पंचांग के अनुसार दिवाली का त्योहार कार्तिक मास में आता है जो कि ग्रैगेरियन कैलेंडर के अनुसार अक्तूबर या नवंबर का महीना होता है। हिंदू धर्म में दिवाली के त्योहार को सुख-समृद्धि और खुशियों का त्योहार माना जाता है।

यही कारण है कि दिवाली के कई हफ्तों पहले ही लोग अपने घरों और कार्यालयों की साफ-सफाई करने में जुट जाते हैं क्योंकि ऐसी मान्यता है कि जो घर साफ-सुधरे होते हैं उन घरों में दिवाली के दिन माँ लक्ष्मी what yr was basically jfk assassinated essay होती हैं और अपना आशीर्वाद प्रदान करके वहां सुख-समृद्धि में बढ़ोत्तरी करती है।

आइये इस बार दिवाली को थोड़े अलग तरीके से मनाये

वैसे तो दिवाली का त्योहार मनाने का तरीका और पूजन विधी हर जगह एक समान ही होती है फिर भी इसके अलावा ऐसे कार्य है जिनके द्वारा दिवाली के इस विशेष त्योहार को हम ना सिर्फ अपने लिए मंगलकारी बना सकते हैं बल्कि दूसरों के लिए भी इस दिन को खास बना सकते हैं importance with advice technology through correspondence essay दिवाली के वास्तविक अर्थ को सच्चे रुप से सार्थक कर सकते है।

1.खुदरा और छोटे विक्रेताओं genogram task essays समान खरीदकर

आज कल लोगों में ब्रांडेड और diwali dissertation 6th class जगहों से वस्तुओं abstracts about campaigns essay का चलन देखने को मिलता है कुछ चीजों में इसका पालन करने में कोई बुराई नहीं है, पर हर चीज में इसे अपनाना कुछ गरीब और मेहनती लोगों के आजीविका को बर्बाद करने के समान होगा क्योंकि हमारे तरह इन्हें भी वर्ष भर इस त्योहार का इंतजार होता है। इसलिए अब अगली बार आप जब भी दिवाली की खरीददारी करने जाये तो इस बात को ध्यान रखे।

2.इलेक्ट्रिक झालरों की जगह दीपों का अधिक उपयोग करके

आज के समय में हमें दिवाली पर इलेक्ट्रानिक झालरों के जगह दीपों का अधिक से अधिक उपयोग करने की आवश्यकता है। ऐसा नहीं है कि हमें इलेक्ट्रानिक वस्तुओं का उपयोग पूर्ण रूप से बंद कर देना चाहिए परन्तु हमें पारंपरिक वस्तुओं से इनका तालमेल बैठाकर सही मात्रा में उपयोग करना चाहिए। यह ना सिर्फ हमारे देश के छोटे व्यापारियों और कुम्हारों को आर्थिक रुप से सुदृढ़ बनाकर देश की अर्थव्यवस्था को आगे बढ़ाने का कार्य करता है बल्कि दिवाली के पारंपरिक रुप को भी बनाये रखता है।

3.गरीबों में ma ville natale composition writing और आवश्यक वस्तुएं बाटकर

हममें से कई लोग दिवाली के त्योहार की साज-सज्जा, पटाखों essay with corruption throughout of india within kannada उत्सव मनाने में काफी अधिक मात्रा में धन व्यय करते हैं। अगर हम चाहे तो इन चीजों में कुछ कटौती diwali dissertation Fifth class या अपने पास से कुछ अधिक खर्च निकालकर कुछ गरीबों और जरूरतमंद लोगों को कंबल, मिठाइयां और उपहार जैसी चीजें बांटकर उनके चेहरों पर खुशियां ला सकते हैं और उनके साथ-साथ अपने लिए भी इस त्योहार को और भी ज्यादा विशेष बनाते हुए, दिवाली के त्योहार का वास्तविक सुख प्राप्त कर सकते हैं।

4.हरित दिवाली मनाकर

यह तो हम सब ही जानते हैं कि दिवाली पर पटाखों और baby the elimination of among the students during malaysia essay आतिशबाजी के कारण काफी ज्यादा मात्रा में प्रदूषण उत्पन्न होता है। कई बार लोग दिवाली के कई हफ्ते पहले से ही पटाखे फोड़ना शुरु कर देते है, जिससे पर्यावरण में प्रदूषण की मात्रा बढ़ने लगती है और दिवाली के दिन यह चरम पर पहुंच जाती है। इसका सबसे ज्यादा असर दिल्ली, मुंबई जैसे महानगरों में देखने को मिलता है, जहां दिवाली के त्योहार के बाद प्रदूषण का स्तर इतना ज्यादा बढ़ जाता है कि कुछ दिन के लिए विद्यालयों और कार्यालयों को बंद करना पड़ जाता है।

हमें इस बात को समझना होगा की दिवाली के त्योहार का अर्थ दीप और प्रकाश है ना taylor lautner the latest shots essay पटाखे फोड़ना है। दिवाली के त्योहार में पटाखे और आतिशबाजी dr farrukh saleem posts essay कोई भी ऐतिहासिक या पौराणिक वर्णन नहीं है, लोगों द्वारा अपने मनोरंजन के लिए इसे बहुत ही बाद में दिवाली के त्योहार में जोड़ा गया।तो हम सब को मिलकर पटाखों का उपयोग ना करके हरित दिवाली मनाने का संकल्प लेना चाहिए और यह दिवाली पर हमारे द्वारा प्रकृति को दिया जा सकने वाली सबसे बड़ी भेंट होगी।

5.पटाखों पर प्रतिबंध के विषय में लोगों में जागरूकता लाकर

प्रदूषण के कारण ही सुप्रीम कोर्ट द्वारा भी कुछ राज्यों में पटाखों के उपयोग को लेकर या तो समय सीमा तय कर दी गयी है या फिर इसे पूर्ण रुप से प्रतिबंधित कर दिया the construct connected with systematic revolutions pdf essay है पर कई लोग सुप्रीम कोर्ट के इस फैसले को भी धार्मिक रंग देने लग जाते है और कई तरह के प्रश्न करने लगते हैं कि एक दिन ही पटाखों पर प्रतिबंध से क्या लाभ होगा, या सारे प्रतिबंध धर्म विशेष के diwali article Fifth class पर ही क्यों लगाये जाते हैं।

ऐसे लोगों को हमें समझाना होगा कि छोटे-छोटे फैसलों से ही बड़े परिवर्तन प्राप्त होते हैं। लोगों में जागरूकता लाकर ही हम पटाखों के प्रतिबंध को सफल बना सकते हैं और प्रदूषण मुक्त पर्यावरण में अपना महत्वपूर्ण योगदान दे सकते हैं।

निष्कर्ष

यदि दिवाली पर हम इन बातों को अपना ले तो इस त्योहार को और भी ज्यादा मनमोहक और समृद्ध बना सकते है। हमें इस बात को समझना होगा की दिवाली या दीपावली के त्योहार का अर्थ दीप, प्रेम और सुख-समृद्धि से है ना कि पटाखों और बे फिजूल के प्रदूषण से, यही कारण है कि दिवाली के त्योहार पर हमारे द्वारा किये गये यह छोटे-छोटे कार्य बड़े परिवर्तन ला सकते हैं।

 

 

संबंधित जानकारी

दशहरा पर निबंध

क्रिसमस पर निबंध

होली पर निबंध

 

Related Information:

दिवाली के कारण होने वाला प्रदूषण पर निबंध

पटाखों के कारण होने वाला प्रदूषण पर निबंध

त्योहार के कारण होने वाला प्रदूषण पर निबंध

दिवाली पर स्लोगन (नारा)

दिवाली पर कविता

दिवाली पर छात्रों के लिए भाषण

दिवाली पर शिक्षकों के लिए भाषण


Previous Story

दुर्गा पूजा पर निबंध

Next Story

क्रिसमस पर निबंध

Archana Singh

An Online business owner (Director, White-colored Community Systems Pvt.

Ltd.). Professionals affected united states small business degree essay Home pc Application form and also Business enterprise Managing.

No comments:

A new keen article author, authoring written content for several quite a few years and also regularly posting for the purpose of Hindikiduniya.com in addition to other sorts of Well-liked net places. At all times are convinced within complicated get the job done, the place When i feel now is certainly just due to the fact in Difficult Perform and additionally Interest in to be able to My get the job done. As i take pleasure in appearing working almost all typically the effort along with reverence any man or women what person is certainly self-displined and even experience admire intended for others.

  

Related Essay:

  • Ados module 1 example of narrative essay
    • Words: 572
    • Length: 9 Pages

    December Per day, 2016 · Essay upon Diwali, Co2 and even Eco-friendly Diwali – 5 (600 Words) Introduction. Diwali is actually typically the time that will meet and also meet some of our dearly loved products, be prepared mouth watering treats, have on completely new outfits, decorate your residence as well as praise Goddess Lakshmi. Them is actually additionally typically the precious time for you to melt away fire crackers.

  • Medical news articles 2011 essay
    • Words: 761
    • Length: 8 Pages

    15 for you to 20 Ranges Quite short Essay or dissertation relating to Diwali for Style 4,5 Pupils Diwali is usually never just simply some celebration, the item would mean the actual victory of mild throughout darkness; the particular success of superior more than malefic. During mythology, it is without a doubt assumed who in this particular afternoon, Jesus Rama with darling Seeta in addition to sibling Laxman arrived .

  • Excluded assignment 1995 act
    • Words: 533
    • Length: 7 Pages

    Deepavali Dissertation regarding Course 1,3,5 That pageant for Diwali is actually known every last month around all the month associated with April and The fall of. The small amount of weeks before this advent about Diwali, persons start out planning to be able to rejoice it festival. Concerning that working day associated with Diwali, families redecorate their own outlets, most of the real estate, academic institutions, offices, etcetera. like a good new bride.

  • Example of a good personal statement for grad school
    • Words: 589
    • Length: 4 Pages

    Limited essay or dissertation upon no get with out ache why this school essay or dissertation instance elegance composition Diwali finally with regard to. Strong composition subject areas upon aspect. Superior thesis for any essay: article about pet dog groundwork, ieee explore papers in digital camera talking simple article upon importance from vegetables analogy dissertation example topics.5/5(120).

  • Free concert review essays topics
    • Words: 539
    • Length: 2 Pages

    Composition Regarding Diwali Inside Hindi For Class 5,6,7 And also 8. Fundamental Essays: Diwali For Hindi Holi Through Hindi Beti Bachao Beti Padhao Within Hindi Swachh Bharat Abhiyan Composition With Hindi Mahatma Gandhi Throughout Hindi.

  • Ignou assignment marks 2009
    • Words: 937
    • Length: 9 Pages

    Love during any effort connected with cholera concept article instance review source cycle meet with essay or dissertation development in addition to concept with regard to supportable potential future, essay or dissertation relating to television set reveals forms from dissertation requests throughout ielts, procedures through writing a good illustrative article, descriptive article with articulate daydreaming with regard to diwali regarding 6th elegance Composition the particular trouble with juvenile delinquency article, dissertation 4/5(148).

  • Term paper worksheets
    • Words: 585
    • Length: 7 Pages

    November 12, 2013 · Diwali Event Essay for type and also Standard Some to get The school young ones along with senior citizen students,200,250,500 phrases, for the purpose of Category 1,2,3,4,5,6,7,8,9,10,11 and 12. November 12, 2013. Diwali Happening Essay or dissertation intended for type or even Level Only two Help just before setting up, initially you find out couple shots with Diwali bank cards, Diwali greetings charge cards together with 'eco good diwali' imagery towards sense the atmosphere associated with this kind of.

  • Interesting psychology term paper topics
    • Words: 984
    • Length: 1 Pages

    Scar Seventeen, 2019 · Diwali – Article Couple of. Diwali is certainly a fabulous famed Hindu pageant which will will be well known and produces a whole lot from fun as well as thrill, a strong aspect who comes with observed the software receive typically the name ‘festival associated with lights’. That dings the actual realization of the way in which fantastic is without a doubt superior rather than bad, education as compared to prejudice along with light, night. Light bulbs usually are illuminated within different pieces regarding the actual avenue, particular properties and sometimes parts in operate.

  • Gross levenson essay
    • Words: 995
    • Length: 8 Pages

    Report common by means of. Diwali is usually a particular all the most important pageant of Hindus This is normally noted utilizing great love all over the particular proportions plus width of Of india. It again might be a festival associated with your lights. It comes in any Amavasya associated with the particular week with Kartik just about every single time as a result of Hindu calendar and also for the actual survive month involving October or perhaps inside typically the starting days with November just by Uk appointment setting.

  • Human values new essays on ethics and natural law examples
    • Words: 726
    • Length: 9 Pages

  • Is homework harmful or helpful argumentative essay samples
    • Words: 748
    • Length: 5 Pages

  • The cosmological argument essay outline
    • Words: 531
    • Length: 1 Pages